Sat. Jul 2nd, 2022

Sex With A Cumshot Girl : कभी कभी ही मौक़ा मिलता है सही माल चोदने का। मुझे भी मिला है दिल्ली में, मैंने उसकी गुलाबी चुत में अपना मोटा लौड़ा डालने का मौक़ा मिला और कमसिन लड़की की चुदाई में कितना मजा आता है मुझे एहसास हुआ. आज मैं आपको अपनी सेक्स कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाने जा रहा हूँ।

मैं किराये पर रहता था दिल्ली में, मेरी बीवी गाँव गयी थी क्यों को वो प्रेग्नेंट थी। तो मैं अकेला ही रहता था। जॉब करता था। मेरे जिस मकान में रहता था उसी मकान के ग्राउंड फ्लोर में एक परिवार रहता था। उसकी की बहन थी वो लड़की। उसका नाम था सहीदा, वो उत्तर प्रदेश की रहने वाली थी।

सहीदा अपने भैया और भाभी के साथ रहती थी। उसके भैया भाई दोनों जॉब पर चले जाते थे वो लड़की घर में अकेली ही रहती थी कोई काम नहीं रहता था तो वो बोर हो जाती थी। साहिदा बहुत ही जबरदस्त माल थी। कमसिन थी। छोटी छोटी चूचियां पतली कमर, गोरा बदन, नैन नक्श सेक्सी मस्त चीज थी वो।

ना जाने कितनी राते मैं उसके याद में मूठ मार कर वीर्य गिरा दिया था। सेक्सी कमसिन साहिदा की याद मुझे रोजाना रात में आती थी। पर मुझे क्या पता की एक दिन मैं उसको चोद पाऊंगा जिसकी याद में मूठ मारता हूँ। आप खुद ही सोचिये जिसकी याद में मूठ मारते हैं आप वो आपको चोदने दे दे तो कैसा लगेगा आपको ?

अब मैं सीधे कहानी पर आता हूँ। साहिदा के भैया भाभी तो दिन में जॉब पर चले जाते थे। उसको मन नहीं लगता था ना कोई काम था तो कभी गेट के पास तो कभी कुछ तो कभी कुछ। वो अपना काम करते वो ऊपर भी आ जाती थी। और फिर कहती थी गाने लगा दो। मैं गाने लगा देता वो सुनती और मुस्कुराते रहती थी।

एक दिन की बात है मैं घर पर ही था दिन में। वो मेरे कमरे में आ गयी और कुर्सी पर बैठ गयी। मुस्कुरा रही थी। मैंने पूछा क्या बात है साहिदा मुस्कुरा रही है। अंगड़ाईयाँ ले रही है। बहुत खुश नजर आ रही है। मैं फोल्डिंग पर बैठा था वो चेयर पर था. तो अचानक वो उठी और मेरे गोद में बैठ गयी मात्र पांच सेकंड के लिए और फिर तुरंत ही वो चेयर पर बैठ गयी.

मेरी धड़कन एकदम से तेज हो गयी। मुझे समझ आ गया था की वो क्या चाहती थी। पर कमसिन थी तो मुझे लग रहा था क्या मुझे आगे बढ़ना चाहिए। जब मैं उसकी तरफ देखा तो मैं खुद को रोक नहीं पाया। वो मुस्कुरा भी रही थी और डर भी रही थी। शायद वो जानना चाह रही थी की मुझे बुरा तो नहीं लगा।

मैं उसके चेयर के करीब फोल्डिंग पर ही बैठ गया। उसकी तरफ देखा और उसका गाल पकड़ कर ऊपर किया अपने तरफ। वो शर्म से अपने सर झुकाने लगी। मैं उसके जांघ पर हाथ रखा उसने कुछ नहीं कहा। मैं फिर जांघ को सहलाने लगा। तो अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दी। मैं अपना हाथ उसके पेट पर ले गया सहलाने लगा। वो मुस्कुरा रही थी तो कभी सीरियस हो रही थी ,

फिर मैं उसके चूचियों को छुआ तो वो बाहर देखने लगी शायद वो ये कह रही थी की दरवाजा खुला है। मैं उठा और बोला की दरवाजा बंद कर दूँ। तो वो बोली मुझे नहीं पता। मैं उठाकर दरवाजा बंद कर दिया. इतने में वो खड़ी हो गयी. बोली जा रही हूँ। मुझे निचे जाना है।

मैं उसके करीब आया वो अपना सर वो झुका ली। मैं उसके फेस को फिर से ऊपर किया और उसके कपकपाते होठ को चुम लिया। वो अपना आँख बंद कर ली। मैं उसके चूचियों को मसलना शुरू किया वो आँखे बंद कर ली। मैं उसको अपना फोल्डिंग पर बैठाया वो बैठ गयी। मैं उसके समीज के ऊपर से हाथ अंदर घुसाया और छोटी छोटी चूचियों को मसलने लगा.

मैं उसको लिटा दिया। और उसके ऊपर चढ़ गया। सलवार का नाडा खींच दिया और निचे कर दिया। देखा वो अंदर कुछ नहीं पहनी थी। चूत पर बाल भी नहीं था रोयां था। मैं तुरंत ही उसके समीज को ऊपर किया और छोटी छोटी चूचियों को मसलने लगा और दांत से काटने लगा लगा। वो तुरंत ही कामुक हो गयी।

उसने मुझे पकड़ लिया और चूमने लगी अपनी बाहों में भरने लगी। मैं उसके चुत पर हाथ रखा तो अपना पैर फैला दी। मैं निचे आकर उसके चूत को देखा तो गुलाबी रंग छोटी सी छेद। बिना बाल के चूत दोनो हाथों से चीर कर देखा तो अंदर मेरा लंड जाने का जगह नहीं था।

मुझे लग रहा था कैसे अपना मोटा लौड़ा डालूंगा इस नन्ही सी चुत में। तभी साहिदा ने कहा जल्दी मुझे चोद दो। मैं आवेश में आ गया। तुरंत ही लंड निकाला उसके पैर को अलग अलग किया। और चूत में बीचोबीच लंड लगाया और घुसाने लगा। उसको काफी दर्द होने लगा.

उसने कहा धीरे धीरे डालो। मैंने फिर से लंड निकाला और उसपर थूक लगाया और फिर से कोशिश करने लगा। वो मुझे पकड़ ली। मैं फिर से उसके चूत पर लंड रगड़ा। वो और भी ज्यादा कामुक हो गई। मैं फिर से बीचोबीच लगाया उसके चुत पर और जोर से घुसा दिया.

वो अपना गांड उठा ली। दर्द से कराह उठी उसके आँख में आंसू आये। मैं उसके चूचियों को सहलाया और बोला बस अब दर्द नहीं सील चुत का टूट गया। और फिर लंड को अंदर डालने लगा। दो तीन झटके दिया। थोड़ा खून निकला और फिर लंड अंदर चला गया.

अब मैं उसको चोदना शुरू किया और उसकी चूचियों को दबाना शुरू किया। उसको होठ चूसते हुए जब झटके देता लंड का तो वो आह आउच ओह्ह्ह आअह्ह करती। मैं जोर जोर से पेलने लगा। उसके कमसिन बदन और खूबसूरत होठ चूचियों को देखकर मेरे से रहा नहीं गया और मैं उस दिन जल्दी ही झड़ गया.

जब मैं उसके चुत को फिर से देखा तो लाल नजर आ रहा था। और अंदर फटा दिख रहा था। वो खड़ी हो गयी और मेरे बाहों में आ गयी। फिर क्या दोस्तों। कमसिन कली को चोदा वो मुझे आजतक याद है। फिर उसको मैं करींब तीन महीने तक चोदा था।

Sex With A Cumshot Girl

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.