Mon. Jul 4th, 2022

दिवाली सेक्स, दिवाली सेक्स कहानी, भाई बहन सेक्स स्टोरी, कहानी भाई बहन की चुदाई की, Bhai Bahan Sex, Bro Sis Story, Behn Sex, Bro Sex, Bhai Bahan ki Sex Kahani,

मेरा नाम रेखा है मैं 28 साल की हूँ। दिल्ली में रहती हूँ, मेरे पति फ़ौज में हैं. मेरे भाई साहब अकेले रहते हैं भाभी एयर होस्टेस हैं। वो अशोक विहार में रहे हैं और मैं गुजरावालां टाउन में रहती हूँ। मेरे घर से उनका घर ज्यादा दुरी पर नहीं है। शाम को मैं अपने घर में पूजा पाठ कर सोची की मैं भी अकेली हूँ क्यों की अभी तक कोई बच्चा नहीं हुआ है किसी दिक्कत की वजह से तो अभी कोशिश ही कर रही हूँ। और पति सीमा पर तैनात हैं।

शाम को करीब आठ बजे भाई साहब का फ़ोन आया की रेखा आज हम दोनों दिवाली यही मनाते हैं तुम आ जाओ। तो मैं बोली ठीक है पूजा पाठ कर के आ रही हूँ। और मैं उनके यहाँ करीब 10 बजे पहुंच गई। हैप्पी दिवाली बोली। और फिर दोनों भाई बहन बाहर आकर अन्य पड़ोसियों से मिलने लगे और विश करने लगे। बहुत मजा आया सब से मिलना गले लगना।

करीब ११ बजे भैया ने खाना और्डर किया और खाना आया हम दोनों ने डिनर किया और फिर साथ बैठकर ही दो दो पेग लिए। मेरे परिवार में शराब पीना आम बात है इसलिए आप ये नहीं सोचियेगा की शराब और वो भी भाई के साथ। दोनों धीरे धीरे कर के दो पेग से 4 पेग हो गया और फिर हम दोनों एक दूसरे की ख़ुशी के साथ साथ दुःख भी शेयर करने लगे। दोनों नशे में थे तो अपनी मन की भड़ास अच्छे से निकाल रहे थे। जहाँ भाई साहब कह रहे थे की देखो एक तुम्हारी भाभी है वो आठ आठ दिन तक घर से बाहर रहती है यार ये भी कोई ज़िंदगी है। लोग सोचते होंगे बीवी एयर होस्टेस है इतनी हॉट है सेक्सी है तो सेक्स लाइफ कितनी अच्छी होगी। पर मुझे पता है ना महीने के एकाकबार ही चोद पाता हूँ। फिर उन्होंने बोला सॉरी सॉरी गलत वर्ड निकल गया मैं बोली कोई बात नहीं भइया गलत बात नहीं ये तो सही बात है। जब किसी मर्द को बीवी रहते हुए वो भी गरमा गर्म बीवी और चुदाई का मौक़ा नहीं मिले तो सब लोग यही कहेगा.

तभी मेरा भाई मेरा मुँह देखकर कहने लगे तू भी धीरे धीरे बदमाश होने लगी है। मैं बोली इसमें कौन से बात है भइया आपको तो पता है ये तो पार्ट ऑफ़ लाइफ है। और वो कहने लगे लगता है वो किसी से जरूर चुदवाती होगी नहीं तो कोई इतना दिन कैसे रह सकता हैं। तो मैं बोली क्यों क्यों नहीं रह सकता हैं। अब मुझे ही देखो मैं अकेली हूँ और मेरे पति बॉर्डर पर हैं तो मैं बिना चुदाई के ही रहती हूँ। पर हां भैया रहा नहीं जाता। दोस्तों ऐसा दोनों इसलिए खुलकर बोल रहे थे क्यों की हम दोनों ही शराब के नशे में थे और अपनी बात खुलकर कह रहे थें।

तभी भइया बोले क्यों ना हम दोनों आज हैप्पी दिवाली कर लें। तो मैं बोली मैं कहा मना कर रही हूँ। मैं तो तैयार हूँ और फिर दोनों लड़खड़ाते हुए उठे और एक दूसरे के गले लग गए और हैप्पी दिवाली बोला और फिर दोनों बाहों में बाहें डाल कर बैडरूम में चले गए। वो मुझे किश करने लगे धीरे धीरे वो मेरे कपडे उतार दिए और खुद भी सारा कपड़ा उतार दिया। भाई सबह का लौड़ा बहुत मोटा था दोस्तों मेरे पति से सीधे दुगुना। और लम्बाई करीब 8 इंच ऐसा लौड़ा तो पोर्न फिल्म में ही देखते हैं।

उसकी बाद वो मेरी बूब्स को दबाने लगे, निप्पल को दोनों होठो से दबाते ही मेरे शरीर में आग लग रही थी। मैं अपना होश होने लगी थी मेरी चूत गीली होने लगी थी। मेरे आँख अपने आप ही बंद होने लगे थे। मैं मदहोश होने लगी थी। दोस्तों एक तो शराब का नशा और दुसरा जिस्म का नशा एक साथ हो जाये तो आप खुद ही सोचिये वासना की आग कितनी भयानक होगी वही हाल हम दोनों का हो गया था हम दोनों बिना नजर चुराए एक दूसरे के शरीर में समा गए थे। वो मेरी चूत में जीभ डालकर गरम गरम पानी पि रहे थे। मुझे उनका ये करना काफी अच्छा लग रहा था।

उसके बाद वो शराब का बोतल लाये मेरे टांगों को अलग अलग किया। और मेरी चूत में शराब डाल दाल कर चाटने लगे। फिर उन्होंने मेरे बगल (आर्मपिट) में शराब डाल दिया और फिर चाटने लगे दोनों बगल में शराब डालते और चाट जाते फिर मेरी नाभि में शराब डालते और चाट जाते फिर चुत में डालते और चाट जाते। उन्होंने तो मुझे ऐसे कामुक कर दिया की क्या बताऊँ। मेरे प्यारे नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के दोस्तों मैं आजतक कभी इतनी कामुक नहीं हुई थी जितना रात को हुई थी।

उसके बाद उन्होंने मेरे दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखा। मेरी चौड़ी गांड के बीच में छोटा से छेद क्लीन सेव थे मेरी चूत, मेरी चूत बड़ी ही जबरदस्त हैं। उन्होंने मेरे चूत पर अपना मोटा लंबा लौड़ा रखा और अंदर घुसा दिया। मेरे रोम रोम सिहर गए थे एक अजीब से हलचल पुरे बदन में होने लगी थी अंगड़ाइयां लेने लगी थी और ऐसा लग रहा था मेरी चूत की गर्मी आज अच्छे से शांत कर दे.

दोस्तों फिर शुरू हुई चुदाई मेरी। वो मेरी बूब्स को ऐसे दबा रहे थे जैसे मैं आटा गूंधती हूँ। मेरी टाइट बूब्स को मसल रहे थे जिससे उनमे ऊँगली का छाप साफ़ दिखाई देता था। वो अपने दोनों ऊँगली से मेरी निप्पल को रगड़ते तो मैं और भी पागल हो जाती थी। वो मेरी गांड में ऊँगली करते और फिर जोर से मेरी चूत में लौड़ा घुसाते तो मजा आ जाता था। इतनी मस्ती मैं कभी भी इसके पहले नहीं की थी चुदाई में। करीब मुझे १ घंटे तक चोदे। मैं सबसे ज्यादा एन्जॉय करने लगी थी जब वो निचे लेते और मैं उनके मोटे लौड़े पर उछल उछल कर चुद रही थी पूरा का पूरा लंड मेरे अंदर झटके से जाता था तब मेरे मुँह से सिर्फ हाय हाय निकल रहा थे।

करीब १ घंटे की चुदाई में हम दोनों परिपूर्ण हो गए थे और नंगे ही सो गए थे। उसके बाद रात में एक बार और और एक बार सुबह चुदी हूँ। मेरी दिवाली बहुत ही अच्छी रही है। अब आगे कैसा रिश्ता रहता है वो बाद में अपनी कहानी के द्वारा आपको बताउंगी।

तब तक के लिए आपको धन्यवाद दूसरी कहानी जल्द ही नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लेके आउंगी।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.